पुलिस असमंजस में गौवंशीय को किसको सुपर्द किया जाए, भूखे प्यासे गौवंशीय तड़पते रहे, जाने पूरी खबर 

 
पुलिस असमंजस में गौवंशीय को किसको सुपर्द किया जाए, भूखे प्यासे गौवंशीय तड़पते रहे, जाने पूरी खबर 

हसनगंज /उन्नाव

हसनगंज कोतवाली क्षेत्र के लखनऊ आगरा एक्सप्रेसवे मटरिया गांव के पास बुधवार की रात तीन बजे आगरा की तरफ से आ रहे तेज रफ्तार ट्रक आ रहा था, तभी शक होने पर यूपीडा व पीआरवी की गाड़ी ने रोकने की कोशिस की तो अंधेरे का फायदा फायदा उठाकर ड्राइवर व क्लीनर ट्रक साइड में खड़ा करके भाग गए। पुलिस ने तिरपाल खोल कर देखा तो उसमें भूसे की तरह 17 साड़ व एक गाय लदे थे।कई घण्टे पुलिस असमंजस में पड़ी रही कि इन गौवंशीय को किसको सुपर्द किया जाए, भूखे प्यासे गौवंशीय तड़पते रहे सुबह 8 बजे के बाद मोहान चौकी प्रभारी जितेंद्र यादव ने स्थानीय कोतवाली क्षेत्र के ग्राम पंचायत बीबीपुर के मजरा चिरयारी की अस्थाई गौशाला में छुड़वाया है। जहा देर शाम तक भूसा नसीब नही हो सका जिससे अस्थाई गौशाला में गौवंशीय घूमते रहे।इस संबंध में कोतवाली प्रभारी निरीक्षक महेश चंद्र ने बताया की अज्ञात वाहन चालक व मालिक पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।विधिक कार्यवाई की जा रही है फिरहाल चिरयारी अस्थाई गौशाला में रखवाया गया है।सूत्रों की माने तो मटरिया गांव के पास ट्रक अचानक खराब हो गया जिससे चालक व क्लीनर गौवंशीय भरा ट्रक छोड़ कर भाग गए, जबकि पुलिस व यूपीडा कर्मचारी अपनी पीठ थपथपा रहे है।बड़ी मात्रा में आगरा एक्सप्रेस वे से राजस्थान से गौवंशीय पशु तस्करी करके उत्तर प्रदेश में लाये जाते हैं। स्लाटर हाउसो में गौवंशीय पशुओं की काफी मांग है।