रामवीर उपाध्याय अब भाजपा में

रामवीर उपाध्याय के निवास पर सुबह से ही समर्थकों का आना शुरू हो गया था। दोपहर करीब एक बजे भाजपा के ब्रज क्षेत्र अध्यक्ष रजनीकांत माहेश्वरी उनके आवास पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद और विकासवाद की सोच रखने वाले लोग भाजपा के साथ आ रहे हैं। रामवीर उपाध्याय और उनके समर्थकों के पार्टी में आने से प्रदेश के विकास को गति मिलेगी। विधानसभा चुनाव में उपाध्याय को टिकट देने के सवाल पर ब्रज क्षेत्र अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी में आए हैं तो टिकट भी मिलेगा।

 
sdf
बहुजन समाज पार्टी के कद्दावर नेता और प्रदेश के पूर्व ऊर्जामंत्री रामवीर उपाध्याय ने शनिवार को भाजपा का दामन थाम लिया। ब्रज क्षेत्र अध्यक्ष रजनीकांत माहेश्वरी ने शास्त्रीपुरम स्थित उपाध्याय के निवास पर पहुंचकर उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। उपमुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने मोबाइल फोन के माध्यम से समर्थकों को संबोधित किया। डा. शर्मा ने कहा कि रामवीर उपाध्याय के आने से आगरा, अलीगढ़, हाथरस, बदायूं सहित कई जिलों में भाजपा मजबूत होगी।

रामवीर उपाध्याय के निवास पर सुबह से ही समर्थकों का आना शुरू हो गया था। दोपहर करीब एक बजे भाजपा के ब्रज क्षेत्र अध्यक्ष रजनीकांत माहेश्वरी उनके आवास पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद और विकासवाद की सोच रखने वाले लोग भाजपा के साथ आ रहे हैं। रामवीर उपाध्याय और उनके समर्थकों के पार्टी में आने से प्रदेश के विकास को गति मिलेगी। विधानसभा चुनाव में उपाध्याय को टिकट देने के सवाल पर ब्रज क्षेत्र अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी में आए हैं तो टिकट भी मिलेगा।

इस दौरान उपाध्याय ने समर्थकों का आभार जताया। फतेहपुर सीकरी लोकसभा सीट से सांसद रहीं और वर्तमान हाथरस की जिला पंचायत अध्यक्ष सीमा उपाध्याय ने कहा कि भाजपा इस चुनाव में विपक्षी दलों का सूपड़ासाफ कर देगी। इस अवसर पर प्रदेश प्रवक्ता हरीश श्रीवास्तव, नवल तिवारी, हाथरस के जिला अध्यक्ष गौरव आर्य, सुनील गौतम, विनोद उपाध्याय, सत्येंद्र शर्मा आदि मौजूद रहे।

रामवीर उपाध्याय वर्तमान में सादाबाद सीट से विधायक हैं। हाथरस के बामोली गांव में 1957 में जन्मे रामवीर उपाध्याय ने एलएलबी की है। 1991 के चुनाव से पहले वे क्षेत्र में सक्रिय हुए। हाथरस सीट से बीजेपी का टिकट पाने की कोशिश की। टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय चुनाव लड़कर अपनी भारी भरकम उपस्थिति दर्ज कराई लेकिन जीत नहीं मिली। 1

996 में वह हाथरस से बीएसपी की टिकट पर चुनाव जीते। मायावती सरकार में कैबिनेट मंत्री बने। बीएसपी की टिकट पर 1996, 2002 और 2007 में विधायक चुने गए और हर बार मायावती मंत्रिमंडल में मंत्री बने। पूर्व ऊर्जा मंत्री और मायावती के निकट के कद्दावर नेताओं में उनकी पहचान रही। 2012 का चुनाव वे हाथरस की सिकंदराराऊ सीट से जीते। 2017 में सादाबाद विधानसभा सीट से चुनाव जीतकर विधायक बने हैं।