16 साल की लड़की ने बताई हैवानियत की कहानी

पहले वह खामोश थी। चुप्पी तोड़ी तोड़ने से पहले फूट-फूटकर रोई। पीड़िता ने जो झेला उसे सुनकर काउंसलर भी हैरान रह गए। पीड़िता ने बताया कि उसे किसी ने नहीं छोड़ा। बस्ती की एक महिला ने उसे देह व्यापार में धकेल दिया। कभी ऑटो वाले तो कभी होटल वालों ने उसकी बोली लगाई। लंबे समय से वह ऐसे माहौल में जी रही थी। उसका दम घुट रहा था।

 
 
vxz

वह सिर्फ 16 साल की है। पहले वह चुप्पी साधे रही। पुलिस के मेडिकल कराने पर भी होंठ न खोले। आशा ज्योति केंद्र ने सात दिन के भीतर ही दोबारा मेडिकल कराया तो पता चला कि उसके साथ हैवानियत हुई है। वह फूट-फूटकर रोयी तो उसके दिल का गुबार फट पड़ा। जो मिला उसने किशोरी को नहीं बख्शा।

अब मामला महिला बाल विकास विभाग के पास पहुंच गया है तो हड़कंप मचा हुआ है। किसके खिलाफ कार्रवाई की जाए। किस थाने में मुकदमा लिखाया जाए इस पर मंथन चल रहा है। खंदारी क्षेत्र निवासी किशोरी सात दिनों से आशा ज्योति केंद्र में है। उसकी काउंसलिंग चल रही है।

पहले वह खामोश थी। चुप्पी तोड़ी तोड़ने से पहले फूट-फूटकर रोई। पीड़िता ने जो झेला उसे सुनकर काउंसलर भी हैरान रह गए। पीड़िता ने बताया कि उसे किसी ने नहीं छोड़ा। बस्ती की एक महिला ने उसे देह व्यापार में धकेल दिया। कभी ऑटो वाले तो कभी होटल वालों ने उसकी बोली लगाई। लंबे समय से वह ऐसे माहौल में जी रही थी। उसका दम घुट रहा था।

वह गर्भवती है। किशोरी की रिपोर्ट महिला बाल विकास को भेजी गई है। एक सप्ताह पूर्व गुरुद्वारा गुरु के ताल फ्लाईओवर के नीचे किशोरी को किसी ने बुरी नीयत से दबोचा था। यह देख वहां से गुजर रहे एक सरदार जी ने 112 नंबर पर फोन किया। पुलिस पहुंची। किशोरी को सिकंदरा थाने ले गई।

सिकंदरा थाने से चाइल्ड लाइन को सौंपा गया। चाइल्ड लाइन ने बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया। लड़की का मेडिकल सीएमओ कार्यालय में कराया गया। जहां यह लिखकर दिया गया कि इसके साथ कुछ नहीं हुआ। लड़की अपनी अंदरूनी जांच नहीं कराना चाहती है।

बाल कल्याण समिति के आदेश पर उसे आशा ज्योति केंद्र लाया गया। यहां से दोबारा मेडिकल कराया गया। दूसरी बार लेडी लॉयल में हुए मेडिकल ने सभी के होश उड़ा दिए। किशोरी गर्भवती है। किशोरी के गर्भवती होने से खलबली मची हुई है। अब उसके माता- पिता को वादी बनाकर मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी चल रही है।