भारत में तेजी से बढ़ रहे कोरोना की रफ्तार

 
भारत में तेजी से बढ़ रहे कोरोना की रफ्तार

बोकारो से संगीता की रिपोर्ट                                          

भारत दुनिया का पहला ऐसा देश बन गया जहां 1 दिन में 4 लाख से अधिक संक्रमण के मामले सामने आए हैं देश में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण को देखकर सोशल मीडिया पर अलग-अलग दावे किए जा रहे हैं इन्हीं में एक दावा यह भी किया गया की 5G की टेस्टिंग के कारण कोरोना फैल रहा है एक दवा यह भी है कि कोरोना जैसी कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह 5जी रेडिएशन के कारण हो रहा है आइए जानते हैं इस दावे पर विश्व स्वास्थ संगठन क्या कहता है आजकल सोशल मीडिया में जोर शोर से एक स्लोगन चल रहा है पाइप लीकेज टेस्टिंग बंद करो इंसानों को बताए गए  एक से एक पोस्ट वायरल हो रहा है यह जो हमारी दूसरी बार आई है जिसे सब कोरोनावायरस हैं यह बीमारी को रोना नहीं 5जी टावर की टेस्टिंग की वजह से हैं रेडिएसन हवा में निकल कर हवा को जहरीला बना रही है इसलिए लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है और लोग मर रहे हैं इस वजह से 5G टावर की टेस्टिंग बंद करने की मांग की जा रही है फिर देखिए सब सही हो जा

एगा

ने कहा कि 5G नेटवर्क रेडिएशन के कारण घर में हर जगह हल्का सा करंट महसूस हो रहा है गला कुछ ज्यादा ही सूखना शुरू हो गया है प्यासा ज्यादा  लगने लगी है नाक में कुछ पपड़ी जैसा जमना पपड़ी में खून देखना यदि आपके साथ वास्तव में ऐसा  कुछ हो रहा है तो समझ लीजिए कि हानिकारक  मे कारण है 5G नेटवर्क रेडिएशन का हमारे उपर  इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ने लगा है जैसे 4G रेडिएशन ने चिड़िया पंछी को खत्म किया था वैसे ही 5G रेडिएशन जी वो और मानव जाति के बहुत ही ज्यादा हानिकारक है अखबार की कटिंग भी वायरल हो रही है जिसमें पानीपत की समाज सेविका सचिन लूथरा के हवाले से कहा गया है कि उन्होंने सरकार से 5G की ट्रेनिंग बंद करने की मांग की है साहिब जी के कारण महामारी फैल रही है वास्तव में लूथरा ने ऐसा कहां है ।
यह नया भारत दर्शन समाचार इसकी पुष्टि नहीं करता है

विश्व स्वास्थ संगठन की अधिकारी वेबसाइट पर इस तरह के अभाव को लेकर एक सेक्शन है जिसने  कोरोनावायरस के धागे के बारे में विस्तार से समझाया गया है वेबसाइट में एपीसीटी 5G मोबाइल नेटवर्क डू नॉट स्पीच गोविंद 19 नाम से एक पोस्ट है इस पोस्ट में साफ तो लिखा है कि वह रेडियो वेव और मोबाइल नेटवर्क से नहीं खेलते हैं कोविड-19 देश में भी फैल रहा है जहां 5G की  टेस्टिंग हो रही है और ना ही 5G मोबाइल नेटवर्क है कोरोनावायरस संक्रमित व्यक्ति के साथ की बूंदों से फैलता है या व सीखता है बात करता है या थूकता है इसके अलावा यदि किसी तरह पर संक्रमित इंसान की साख की बूंदे गिरती है तो उसे छूने और फिर नाक और आंख छूने से  सत्ता में आते हैं।