किसानों के नाम पर बनी पार्टी 6 सीटों पर उद्योगपतियों को देगी टिकट

किसान आंदोलन के दौरान किसान नेता सरकार पर उद्योगपतिियों के हाथों की कठपुतली बनने का लगातार आरोप लगाते रहे। दिल्ली से लगने वाली विभिन्न राज्यों की सीमाओं पर इसको लेकर कई होर्डिंग और बैनर भी लगवाए गए। वहीं, अब किसान राजनीतिक संगठन के नेताओं ने कहा कि लुधियाना के छह शहरी क्षेत्रों का टिकट उद्योगपतियों को दिया जाएगा।

 
fg
केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए मजबूर करने वाले कुछ किसान संगठन अब पंजाब के सियासी अखाड़े में नजर आएंगे। सयुंक्त समाज मोर्चा (एसएसएम) नाम के किसान संगठन ने पंजाब चुनाव लड़ने का फैसला किया है। मोर्चा ने टिकट के लिए आवेदन भी मंगाए हैं। 

आपको बता दें कि कम से कम 1,273 लोगों ने सयुंक्त समाज मोर्चा (एसएसएम) के समक्ष टिकट के लिए अपने दस्तावेज जमा कराए हैं। 

किसान आंदोलन के दौरान किसान नेता सरकार पर उद्योगपतिियों के हाथों की कठपुतली बनने का लगातार आरोप लगाते रहे। दिल्ली से लगने वाली विभिन्न राज्यों की सीमाओं पर इसको लेकर कई होर्डिंग और बैनर भी लगवाए गए। वहीं, अब किसान राजनीतिक संगठन के नेताओं ने कहा कि लुधियाना के छह शहरी क्षेत्रों का टिकट उद्योगपतियों को दिया जाएगा।

शुक्रवार शाम एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए मोर्चा के नेता प्रेम सिंह भंगू ने कहा कि एसएसएम ने घोषणा की थी कि वह सभी 117 निर्वाचन क्षेत्रों में ईमानदार, शिक्षित और योग्य उम्मीदवारों को मैदान में उतारेगा। हमें अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। भंगू ने कहा कि उन्होंने तय किया है कि लुधियाना शहर की छह सीटें उद्योगपतियों को दी जाएंगी।