GAIL के निदेशक पर रिश्वत मांगने का आरोप

कहा जा रहा है कि दिल्ली के रहने वाले दो लोगों ने इस मामले में बिचौलिये की भूमिका निभाई थी। बता दें कि गेल (इंडिया) लिमिटेड  भारत सरकार की उपक्रम कंपनी है। गेल भारत में सबसे बड़ी राज्य के स्वामित्व वाली प्राकृतिक गैस प्रसंस्करण और वितरण कंपनी है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है। यह पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण के तहत भारत सरकार का एक राज्य के स्वामित्व वाला उद्यम है। 

 
df
केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने गेल (इंडिया) लिमिटेड के निदेशक (मार्केटिंग)ईएस रंगनाथन के खिलाफ केस दर्ज किया है। आरोप है कि ईएस रंगनाथन ने बिचौलियों के जरिए रिश्वत की मांग की है। कहा जा रहा है कि यह रिश्वत पेट्रोकैमिकल उत्पादों पर छूट देने के एवज में मांगी गई थी। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि सीबीआई ने इस मामले में दिल्ली और नोएडा में कुछ स्थानों पर छापेमारी भी की है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि कुल 8 स्थानों पर यह छापेमारी हुई है, जिसमें निदेशक का घर भी शामिल है। 

कहा जा रहा है कि दिल्ली के रहने वाले दो लोगों ने इस मामले में बिचौलिये की भूमिका निभाई थी। बता दें कि गेल (इंडिया) लिमिटेड  भारत सरकार की उपक्रम कंपनी है। गेल भारत में सबसे बड़ी राज्य के स्वामित्व वाली प्राकृतिक गैस प्रसंस्करण और वितरण कंपनी है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है। यह पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण के तहत भारत सरकार का एक राज्य के स्वामित्व वाला उद्यम है। 

सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि रंगनाथन के ठिकाने पर छापेमारी के दौरान 1.30 करोड़ रुपए कैश बरामद किये गये हैं। सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस मामले में रंगनाथन के अलावा कुछ अन्य लोगों, निजी कंपनियों पर भी केस दर्ज किया गया है। इन सभी पर भ्रष्टाचार में शामिल होने और गैर-कानूनी तरीके से साजिश रचने का आऱोप है।

आरोप है कि निजी कंपनी के प्रतिनिधियों के कहने पर एक शख्स ने गेल के कर्मचारी से आग्रह किया था गेल द्वारा बनाए गए पेट्रो कैमिकल उत्पाद पर खरीददार को छूट दी जाए। यह भी आरोप है कि इस शख्स ने 40 लाख रुपए भी लिए थे।सीबीआई ने जाल बिछाकर दिल्ली के एक शख्स और एक निजी कंपनी के डायरेक्टर को पकड़ा। आरोप है कि इन लोगों ने गेल के मार्केटिंग निदेशक के लिए 10 लाख रुपए लिए थे।

सीबीआई ने दिल्ली, नोएडा, गुड़गांव, पंचकुला, करनाल इत्यादि जगहों पर छापेमारी की है। इस छापेमारी में 1.30 लाख करोड़ बरामद किये गये हैं और इनमें से 75 लाख रुपए गुड़गांव के एक शख्स के पास से मिले हैं। CBI ने अब तक 5 लोगों को इस मामले में गिरफ्तार किया है।