'पृथ्वीराज चौहान' के लिए की गई 18 साल तक कड़ी रिसर्च

निर्द्रेशक चंद्रप्रकाश ने बताया, 'जबसे हमने शुरू किया तभी से हम सम्राट पृथ्वीराज को सबसे बड़ा और सबसे गौरवशाली ट्रिब्यूट देना चाहते थे। हमने हर वो जरूरी काम किया जिससे इस महान हिंदू योद्धा की कहानी को सबसे ऑथेंटिक ढंग से पेश किया जा सके। इसके लिए पहला कदम था रिसर्च और हमने इस पर सटीक और गहरी रिसर्च की।

 
 
x

अक्षय कुमार की अपकमिंग फिल्म 'पृथ्वीराज' की कहानी शूरवीर योद्धा पृथ्वीराज चौहान के जीवन पर आधारित है और इसे लेकर फैंस भी काफी एक्साइटेड हैं। फिल्म में अक्षय कुमार लीजेंडरी वॉरियर पृथ्वीराज का रोल प्ले कर रहे हैं। फिल्म के निर्देशक चंद्रप्रकाश द्विवेदी चाहते थे कि फिल्म पृथ्वीराज चौहान के जीवन को बिलकुल ठीक ढंग से पेश करे, यही वजह थी कि YRF ने एक पूरा फ्लोर ही पृथ्वीराज पर रिसर्च के लिए डेडिकेट कर रखा था। 

निर्द्रेशक चंद्रप्रकाश ने बताया, 'जबसे हमने शुरू किया तभी से हम सम्राट पृथ्वीराज को सबसे बड़ा और सबसे गौरवशाली ट्रिब्यूट देना चाहते थे। हमने हर वो जरूरी काम किया जिससे इस महान हिंदू योद्धा की कहानी को सबसे ऑथेंटिक ढंग से पेश किया जा सके। इसके लिए पहला कदम था रिसर्च और हमने इस पर सटीक और गहरी रिसर्च की।

' उन्होंने बताया, 'मैंने पर्सनली इस स्क्रिप्ट पर साल 2004 से लेकर 2009 तक काम किया है जिसमें हर साल मैं इस स्क्रिप्ट को अपडेट करता रहा हूं। तो जाहिर तौर पर मेरे पास बहुत सारा मैटेरियल था जिसे रेफरेंस के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता था।' चंद्रप्रकाश ने बताया कि तमाम किताबें, कॉस्ट्यूम, हथियार और ऐसी तमाम चीजें थीं जिन्हें इस्तेमाल किया गया।

फिल्म के बारे में अक्षय कुमार ने बताया, 'जब फिल्म की कहानी डॉ. साहब ने मुझे सुनाई तो मैं उस रिसर्च से दंग रह गया था जो उन्होंने फिल्म की कहानी लिखने के दौरान की थी। एक ऐतिहासिक कहानी पर फिल्म बनाना, उसका निर्देशन करना और उस पर रिसर्च करना आसान नहीं होता है और उन्होंने इसमें कोई कसर नहीं छोड़ी थी।'

अक्षय कुमार ने बताया कि उन्होंने 18 साल तक इंतजार किया था ताकि वह सबसे गौरवशाली अंदाज में इस कहानी को पेश कर सकें। मुझे उम्मीद है कि लोगों को ये फिल्म पसंद आएगी क्योंकि इसमें सबसे सच्चे ढंग से चौहान की कहानी को सुनाया गया है।