‘स्वर्ग आश्रम’ मोक्ष से पहले ही गंगासागर में स्वर्गिक सुख की अनुभूति कराता है

गंगासागर। गंगासागर मेले के दौरान यूं तो सेवा शिविरों की कमी नहीं होती लेकिन कलकत्ता वस्त्र व्यवसायी सेवा समिति के ‘स्वर्ग आश्रम’ की बात ही कुछ और है। मोक्ष प्राप्ति की कामना लेकर देश-दुनिया से गंगासागर आने वाले तीर्थयात्रियों को यहां पहले ही स्वर्गिक सुख की अनुभूति हो जाती है, शायद तभी इसका यह नाम पड़ा है। इसमें कोई दो राय नहीं कि इस पुण्य धाम में ठहरने, खाने-पीने और उपचार की सबसे अच्छी व्यवस्था स्वर्ग आश्रम में ही है। गंगासागर में स्थित यह सबसे विशाल स्थायी धर्मशाला है, जहां एक साथ 5,000 लोगों के ठहरने की व्यवस्था है।

16 जनवरी तक चलेगा सेवा शिविर

कलकत्ता वस्त्र व्यवसायी सेवा समिति के सचिव नंदकिशोर भूतड़ा ने बताया-‘हमारा सेवा शिविर आठ जनवरी से शुरू हुआ और आगामी 16 जनवरी तक चलेगा। कोरोना महामारी के कारण इस साल गंगासागर में सेवा शिविर अपेक्षाकृत कम लगे हैं। जिन संस्थाओं ने इस साल अपने सेवा शिविर नहीं लगाए हैं, वे अपने लोगों को हमारी धर्मशाला में भेज रहे हैं इसलिए स्वर्ग आश्रम में काफी चहल-पहल है।’

कोरोना के हालात को देखते हुए विशेष व्यवस्था

भूतड़ा ने आगे कहा-‘कोरोना के हालात को देखते हुए इस बार हमने विशेष व्यवस्था की है। कोरोना को लेकर सरकार की तरफ से जारी समस्त स्वास्थ्य दिशानिर्देशों का अक्षरशः पालन किया जा रहा है। हमारे यहां ठहरने वाले तीर्थयात्रियों में मास्क और सैनिटाइजर वितरित किए जा रहे हैं। सोने की जगह में भी शारीरिक दूरी का ध्यान रखा जा रहा है। खानपान की उत्तम व्यवस्था है। तीर्थयात्रियों को निःशुल्क जलपान, मध्यान्ह व रात का भोजन कराया जा रहा है। चिकित्सा की भी समुचित व्यवस्था है। जिन तीर्थयात्रियों के पास कंबल नहीं होते, उन्हें हमारी तरफ से रात में ओढ़ने के लिए कंबल भी प्रदान किए जाते हैं।’

अध्यक्ष महेंद्र चौधरी कर रहे सेवा कार्यों की अगुआई

कलकत्ता वस्त्र व्यवसायी सेवा समिति के अध्यक्ष महेंद्र चौधरी सेवा कार्यों की अगुआई कर रहे हैं। उनके साथ उपाध्यक्ष सीताराम वर्मा, जनसंपर्क अधिकारी मनोज जैन और विवेक अग्रवाल व सदस्य-सदस्याओं की बड़ी टीम सक्रिय है, जिनमें भंवरलाल बिहानी, मुकेश गुप्ता, मनोज तिवारी, सुरेंद्र शर्मा, राकेश शर्मा, प्रदीप चिरानियां, सुनीत तोदी, गौतम भरतिया, बसंत पोद्दार, राम आधार प्रजापति, राकेश प्रजापति, अरुण बागड़ोदिया, सरला भूतड़ा, आर्यमान चौधरी व देविका भरतिया के नाम उल्लेखनीय हैं। राकेश शर्मा ने बताया-‘इस साल पुण्य स्नान करने वाले आने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या कम है। हमें इस बात का बेहद अफसोस है कि हम इस साल अधिक से अधिक तीर्थयात्रियों की सेवा नहीं कर पा रहे लेकिन हमें पूरा विश्वास है कि कपिल मुनि के आशीर्वाद से अगले साल कोरोना का प्रकोप पूरी तरह से समाप्त हो जाएगा और पहले की तरह लाखों की संख्या में तीर्थयात्री गंगासागर आएंगे और हमें पहले की तरह उनकी सेवा करने का सौभाग्य प्राप्त होगा।’

माघ पूर्णिमा पर भी लगता है सेवा शिविर

उल्लेखनीय है कि गंगासागर मेले के अलावा माघ पूर्णिमा पर भी यहां कलकत्ता वस्त्र व्यवसायी सेवा समिति की तरफ से सेवा शिविर लगाया जाता है। राकेश प्रजापति ने बताया-‘ हालात चाहे जैसे भी हों, हम हमेशा लोगों की सेवा करने के लिए तत्पर रहते हैं। जनसेवा की भावना हमें हर साल खींचकर कोलकाता से गंगासागर ले आती है।’

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.