मेला अधिष्ठान की सहमति से भी चलेंगी कुंभ में ट्रेन, भीड़ नियंत्रित करने को घट-बढ़ सकती है संख्या

हरिद्वार। रेलवे हरिद्वार कुंभ के दौरान 50 फीसद विशेष ट्रेन का संचालन कुंभ मेला अधिष्ठान के निर्देशन में करेगा। इसके तहत चलने वाली 50 ट्रेन में से 25 ट्रेन का संचालन भीड़ के लिहाज से मेला अधिष्ठान की आवश्यकता के मद्देनजर उसके निर्देशन में विभिन्न रूट पर किया जाएगा। कुंभ स्नान के बाद वापसी के क्रम में श्रद्धालुओं की भीड़ को नियंत्रित करने के उद्देश्य से मेला अधिष्ठान किसी रूट पर ट्रेन की संख्या को घटा और बढ़ा सकता है। इसे लेकर रेलवे और मेला अधिष्ठान के अधिकारियों में सहमति बन गई है।

हरिद्वार कुंभ के दौरान रेलवे और कुंभ मेला अधिष्ठान की अन्य व्यवस्थाओं के साथ-साथ भीड़ नियंत्रण पर खास ध्यान दे रहे हैं। इसके तहत कुंभ स्नान के आने वाले श्रद्धालुओं के साथ-साथ उनकी वापसी को भी नियंत्रित तरीके से सुनिश्चित कराने पर पूरा ध्यान दिया जा रहा है। इसके लिए रेलवे जहां 50 ट्रेन के संचालन की तैयारी कर रहा है, वहीं मेले के विभिन्न स्नान पर्व के दौरान देश के विभिन्न हिस्सों से आने वाले श्रद्धालुओं की वापसी को सुविधाजनक बनाने को मेला अधिष्ठान ने श्रद्धालुओं की जाने वाली दिशा के अनुसार ट्रेन के संचालन की आवश्यकता जताई है।

मेला अधिष्ठान के अनुसार पहले से निर्धारित ट्रेन रूट के चलते कुंभ जैसे बड़े आयोजन के दौरान कई बार इस तरह की स्थिति सामने आ जाती है कि जिस दिशा में ट्रेन को जाना है, उस दिशा में जाने वाले यात्रियों की संख्या काफी कम रहती है, जबकि अन्य दिशाओं में जाने वाले यात्रियों की संख्या अधिक होती है। पर, उन दिशाओं के लिए उस वक्त ट्रेन ही नहीं होती। ऐसे में मेला क्षेत्र सहित रेलवे स्टेशन पर यात्री संख्या में अनावश्यक इजाफा हो जाता है, जिससे दुर्घटना सहित अन्य घटनाओं के घटित होने की आशंका बनी रहती है।

इसलिए हरिद्वार कुंभ के दौरान कुल 50 ट्रेन में आधी यानि 25 ट्रेन का संचालन मेला अधिष्ठान के निर्देशन में रेलवे के साथ समन्वय स्थापित कर किया जाएगा। इसके तहत दिन विशेष पर निर्धारित ट्रेन रूट में से अगर किसी रूट पर यात्रियों की संख्या अधिक होने पर उस दिशा की ट्रेन संख्या में इजाफा कर दिया जाएगा, जबकि दूसरे किसी रूट पर यात्री संख्या कम होने पर संख्या में कटौती भी की जा सकती है।

रिजर्व में भी रहेंगी ट्रेन

रेलवे और कुंभ मेला अधिष्ठान ने अपनी इस योजना को अमल में लाने को कुंभ के लिए निर्धारित ट्रेन में से कुछ ट्रेन को रिजर्व में रखने का फैसला लिया है। इन्हें आवश्यकता के अनुसार रेलवे की सहमति से विभिन्न रूट पर संचालित किया जाएगा।

मेलाधिकारी दीपक रावत ने बताया कि कुंभ के मद्देनजर रेलवे से समन्वय स्थापित कर कुंभ मेला के दौरान यात्रियों की वापसी सुनिश्चित करने को ट्रेन के संचालन में मेला अधिष्ठान की अहम भूमिका का निर्धारण किया गया है। इसके तहत दिन और पर्व विशेष पर आवश्यकतानुसार 50 फीसद ट्रेन का संचालन उसके निर्देशन के क्रम में होगा। रेलवे के साथ इसकी सहमति बन चुकी है। वहीं, मुरादाबाद मंडल की वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक रेखा शर्मा ने बताया कि कुंभ के मद्देनजर रेलवे की तैयारियों के तहत यात्रियों की वापसी के क्रम में मेला अधिष्ठान की आवश्यकता को देखते हुए ट्रेन को रिजर्व में रखने और उन्हें मेला अधिष्ठान के निर्देशन में आवश्कता के अनुसार संचालित करने की सहमति बनी है।

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.