बिहार के शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने पद से दिया इस्तीफा

पटना । भ्रष्टाचार का आरोप लगने के मामले में बिहार के नवनियुक्ति शिक्षा मंत्री मेवा लाल चौधरी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। हालांकि इससे पहले मीडिया से बात करते हुए मेवालाल चौधरी ने कहा था किकोई भी केस तब साबित होता है जब आपके खिलाफ़ कोई चार्जशीट हुई हो या कोर्ट ने कुछ फैसला किया हो। न हमारे खिलाफ अभी कोई चार्जशीट हुई है न ही हमारे ऊपर कोई आरोप दर्ज़ हुआ है ।
जदयू के महासचिव के.सी. त्यागी ने कहा, “नीतीश कुमार की पहचान राजनीति में अलग नेता के रूप में है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र लोकलाज से चलता है। यही कारण है कि भ्रष्टाचार के आरोपी शिक्षा मंत्री से उन्होंने इस्तीफा ले लिया है।”

उल्लेखनीय है कि राजद नेता तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पूछा था कि असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति में भ्रष्टाचार करने के आरोपी को शिक्षा मंत्री बनाकर क्या उन्हें लूटने की खुली छूट दी गई है?

राजद नेता ने सवाल किया कि मुख्यमंत्री ने असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति और भवन निर्माण में भ्रष्टाचार के गंभीर मामलों में भारतीय दंड संहित की धारा 409,420,467, 468,471 और 120बी के तहत आरोपी मेवालाल चौधरी को शिक्षा मंत्री बनाकर क्या भ्रष्टाचार करने का इनाम एवं लूटने की खुली छूट दे दी है?

जदयू विधायक डॉ. मेवालाल चौधरी राज्य की तारापुर विधानसभा सीट से निर्वाचित हुए हैं । राजनीति में प्रवेश से पहले मेवालाल भागलपुर कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति थे।

कांग्रेस ने भी चौधरी के मंत्री बनाने पर सरकार पर सियासी हमला बोला था। युवक कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ललन कुमार ने गुरुवार को कहा कि विपक्ष के दबाव के कारण शिक्षा मंत्री को इस्तीफा देना पड़ा। विपक्ष और आम लोगों के दबाव में सरकार को झुकना पड़ा। उन्होंने सवाल किया कि आखिर चौधरी को मंत्री बनाया ही क्यों गया?

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.