कल से पर्यटक कर सकेंगे स्टेचू ऑफ़ यूनिटी की सैर

घूमने के शौकीन लोगों के लिए स्टेचू ऑफ़ यूनिटी से संबंधित बड़ी खुशखबरी है। खबरों की मानें तो गुजरात सरकार ने 17 अक्टूबर से पर्यटकों के लिए स्टेचू ऑफ़ यूनिटी को खोलने की घोषणा की है। इसका मतलब यह है कि अब पर्यटक स्टेचू ऑफ़ यूनिटी जा सकते हैं। इससे पहले कोरोना वायरस माहमारी के चलते मार्च महीने में स्टेचू ऑफ़ यूनिटी को पर्यटकों के लिए पूरी तरह से बंद कर दिया गया था।

उस समय से पर्यटकों के स्टेचू ऑफ़ यूनिटी में प्रवेश पर पाबंदी है, लेकिन अब 17 अक्टूबर से पर्यटक स्टेचू ऑफ़ यूनिटी की सैर कर सकते हैं। इसके लिए गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देशों का पालन किया जाएगा। साथ ही पर्यटकों को नई गाइडलाइंस का पालन करना होगा। आइए जानते हैं कि स्टेचू ऑफ़ यूनिटी के लिए नए नियम क्या हैं-

-सरकार की तरफ से आधिकारिक जानकारी के अनुसार, हर रोज 2500 पर्यटकों को स्टेचू ऑफ़ यूनिटी में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। पर्यटकों को चरणबद्ध तरीके से परिसर में प्रवेश करने की अनुमति होगी। हर चरण में 500 पर्यटक स्टेचू ऑफ़ यूनिटी की सैर कर सकेंगे।

इनमें 100 ( इसके लिए स्पेशल पास लेना होगा) पर्यटकों को मूर्ति परिसर में जाने दिया जाएगा। जबकि हर चरण दो घंटे का होगा। पहले चरण की शुरआत सुबह 8 बजे होगी। जबकि अंतिम चरण का समय शाम 4 बजे रखा गया है। पर्यटक अधिकृत वेबसाइट  www.soutickets.in से टिकट खरीद सकते हैं। मैन्युअल टिकट की सुविधा उपलब्ध नहीं है और न ही टिकट खिड़की पर इसकी सुविधा होगी।

-पर्यटकों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य है। अगर कोई बिना मास्क के आता है, तो उसे परिसर में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी।

-पर्यटकों को शारीरिक दूरी का ख्याल रखना होगा। एक ही परिवार के लोगों को भी सोशल डिस्टैंस मेंटेन रखना होगा।

-स्टेचू ऑफ़ यूनिटी में लैब की सुविधा है। अगर किसी व्यक्ति को कोई भी परेशानी होती है तो उसे तुरंत मेडिकल सहायता दी जाएगी।

  • प्रवेश के मुख्य द्वार पर व्यक्ति के शरीर का तापमान मापा जाएगा। अगर किसी पर्यटक का तापमान अधिक पाया जाता है, तो उसे प्रवेश करने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

-परिसर में हॉप ऑन हॉप ऑफ बसों की सुविधा मिलेगी। यह सेवा पर्यटकों के लिए होगी।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.