प्रेमी संग आस्ट्रेलिया घूम आई पत्नी पति के नाम के फर्जी पासपोर्ट पर

पीलीभीत । पीलीभीत की एक 36 वर्षीय महिला ने कथित तौर पर जनवरी में अपने पति के नाम पर जाली पासपोर्ट बनवाया और अपने प्रेमी के साथ ऑस्ट्रेलिया घूमने चली गई। इस विचित्र किस्म के मामले का दावा महिला के पति ने किया है। जानकारी के अनुसार दोनों को मार्च में लौटना था लेकिन भारत में सभी अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें बंद होने के कारण वे वहीं फंसे रह गए और 24 अगस्त को वापस लौटे।

दामगढ़ी गांव के निवासी और मुंबई में काम करने वाले महिला (46) के पति ने पुलिस में शिकायत दर्ज की है कि उसकी पत्नी और संदीप सिंह (36) के अवैध संबंध हैं। साथ ही पति ने यह आरोप भी लगाया कि पत्नी ने प्रेमी के साथ ऑस्ट्रेलिया जाने के लिए उसके (पति के) दस्तावेजों का इस्तेमाल कर जाली पासपोर्ट बनवाया।

इस दंपत्ति का एक बच्चा ऑस्ट्रेलिया में पढ़ता है।

पुलिस अधीक्षक, जय प्रकाश यादव ने पति की शिकायत पर एक प्राथमिकी दर्ज कर स्थानीय खुफिया इकाई (एलआईयू) द्वारा मामले की जांच करने का आदेश दिया है।

शिकायतकर्ता के अनुसार, वह पिछले 20 वर्षों से मुंबई में काम कर रहा है और कभी-कभी अपनी पत्नी से मिलने आता है, जो फार्महाउस में रहकर पुश्तैनी जमीन की देखभाल करती है।

पति ने कहा, “जब मैं 18 मई को पीलीभीत लौटा तो मेरी पत्नी घर पर नहीं थी। संदीप के परिवार से पता चला कि दोनों ऑस्ट्रेलिया गए थे। यह पता लगाने के लिए कि क्या संदीप ने ऑस्ट्रेलिया जाने के लिए मेरे दस्तावेजों को इस्तेमाल किया है, मैंने बरेली स्थित पासपोर्ट कार्यालय में 24 अगस्त को पासपोर्ट के लिए जानबूझकर आवेदन किया। मेरा संदेह सही निकला और पासपोर्ट अधिकारियों द्वारा बताया गया कि मेरे नाम से 2 फरवरी, 2019 को पासपोर्ट जारी किया जा चुका है।”

एसपी ने कहा कि गजरौला पुलिस और एलआईयू इंस्पेक्टर कंचन रावत जांच करेंगे कि शिकायतकर्ता के नाम पर पासपोर्ट कैसे जारी किया गया, जबकि पासपोर्ट जारी होने के दौरान कई स्तरों पर पहचान की जांच की जाती है।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.