फिर खुलीं शराब की दुकानें तेलंगाना में, लगीं लंबी कतारें

हैदराबाद । तेलंगाना में 43 दिनों के अंतराल के बाद बुधवार की सुबह शराब की दुकानें फिर से खुलीं। दुकानों के बाहर लंबी कतारें लग गईं। राज्य मंत्रिमंडल द्वारा शराब की खुदरा बिक्री की अनुमति दिए जाने के फैसले के कुछ ही घंटों बाद राज्यभर के सभी 33 जिलों में सुबह 10 बजे 2,000 से अधिक आउटलेट्स फिर से खोले गए।

सरकार ने रेड जोन सहित सभी जिलों में शराब की दुकानों को फिर से खोलने की अनुमति दी है। हालांकि कंटेनमेंट जोन में आउटलेट्स खोलने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

राज्य में करीब 2216 शराब की दुकानें हैं और उनमें से 15 कंटेंनमेंट जोन में स्थित हैं, जिन्हें दोबारा नहीं खोला गया है।

सरकार का शराब की कीमतों में 16 फीसदी की बढ़ोतरी करने का फैसला शराब प्रेमियों की भावना को खत्म करने में विफल रहा, वहीं कई तो दुकानों के दोबारा खुलने से दो-तीन घंटे पहले ही कतार में लगने शुरू हो गए थे। सबसे सस्ती शराब की कीमत में 11 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है।

कई जगहों पर संशोधित मूल्य अपडेट न होने के कारण शराब की बिक्री शुरू करने में देरी भी हुई।

हैदराबाद के कोटी स्थित बग्गा वाइन शॉप की कतार में लगे एक व्यक्ति ने कहा, “कल रात घोषणा सुनने के बाद से मैं सोया नहीं हूं। जब मैं यहां पहुंचा तो कुछ लोग पहले से ही कतार में खड़े थे। मैं शराब की बिक्री की अनुमति देने के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद देता हूं।”

हर ग्राहक को सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए दुकानों के बाहर बनाए गए सर्कल में खड़ा देखा गया था। वहीं अधिकारियों द्वारा ‘मास्क नहीं तो शराब नहीं’ नीति की घोषणा के कारण सभी मास्क पहने नजर आए।

मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव ने मंगलवार देर रात कहा था कि किसी भी दुकान के सामने अगर सामाजिक दूरी का पालन न होते देखा गया तो दुकान बंद कर दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली, बेंगलुरु और अन्य शहरों में देखी गई स्थिति को उनकी सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी।

दुकानें सुबह 10 से शाम 6 बजे तक खुली रह सकती हैं और केवल उन्हीं ग्राहकों को शराब मिलेगी, जो मास्क पहने हुए रहेंगे।

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.