रोबोट बनेंगे करीब 20000 नौकरियों पर संकट, इंसानों से बेहतर निर्णय ले रहे निवेश विकल्प चुनने में

हाल के दिनों में रोबोट की उपयोगिता तेजी से बढ़ी है। वाहन उद्योग से लेकर चिकित्सा जगत में रोबोट का व्यापक इस्तेमाल हो रहा है। अब रोबोट ने वित्तीय जगत में भी दखल दे दिया है। वॉल स्ट्रीट जनरल में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, निवेश विकल्प चुनने में इंसानों से बेहतर निर्णय रोबोट ले रहे हैं। रोबोट मशीन लर्निंग के जरिये डेटा का विश्लेषण कर बेहतर शेयर चुन रहे हैं। इसके जरिये निवेशकों को सटीक निर्णय लेना आसान हो गया है।

लागत भी घटाने में मददगार 

इंडियाना विश्वविद्यालय के प्रोफेसर केनेथ मर्कले ने बताया, रोबो एनॉलिस्ट ( Robo Analysts) के जरिये एक बेहतर को शेयर चुनना आसान और तेज हो गया है। साथ ही परंपरागत इक्विटी रिसर्च के अनुपात में लगात भी कम हो गई है।

रोबो एनॉलिस्ट के जरिये चुना हुआ शेयर लंबे समय तक निवेशकों को शानदार रिटर्न दिलाने में भी मददगार रहे हैं। वॉल स्ट्रीट जनरल ने अपनी रिपोर्ट तैयार करने में निवेशकों, कंपनी और कमाई के डेटा को शामिल किया। इसमें पाया गया कि इंसानों द्वारा शेयर में निवेश का कॉल बहुत ज्यादा लाभ नहीं दे पाया। वहीं रोबोट द्वारा दिया गया कॉल लंबी अवधि तक निवेशकों को रिटर्न दिया।

डिजिटल तकनीक से मिली मदद 

रिपोर्ट के अनुसार, कई छोटी फिनटेक कंपनियों ने डिजिटल इक्विटी तकनीक के जरिये से शेयर कारोबार में एंट्री की है। इससे जहां परंपरागत एनालिस्ट शेयर का चयन में कंम्प्यूटर और डेटा विश्लेषण का सहारा ले रहे हैं वहीं छोटे स्टार्टअप सॉफ्टवेयर के जरिये शेयर चुनने का काम कर रहे हैं। यही नहीं, इसके साथ ही आय विवरणों और बैलेंस शीट से लेकर फुटनोट्स बनाने में भी रॉबो-विश्लेषकों की मदद ली जा रही है।

76 हजार रिपोर्टों का विश्लेषण 

इंडियाना विश्वविद्यालय ने अपनी रिपोर्ट तैयार करने में सात विभिन्न रोबो-विश्लेषक फर्मों द्वारा जारी 76,000 से अधिक रिपोर्टों का विश्लेषण किया। ये रिपोर्ट 2003 और 2018 में जारी किए गए थे।

रिपोर्ट का निष्कर्ष यह निकला  कि पारंपरिक फर्मों की तुलना में रोबो एनालिस्ट द्वारा तैयार रिपोर्ट बेहतर लाभ देने वाले थे। रोबो एनालिस्ट अपनी रिपोर्टों को अधिक बार संशोधित करते हैं और बड़े और जटिल कॉर्पोरेट खुलासों के लिए अच्छे हो सकते हैं, जिसमें प्रतिभूति और विनिमय आयोग के साथ फाइलिंग भी शामिल है।

परंपरागत निवेशकों पर दवाब बढ़ा 

रिपोर्ट के अनुसार, रोबो एनालिस्ट द्वारा सटीक विश्लेषण का अनुपात बढ़ने से परंपरागत निवेशकों पर दवाब बढ़ना शुरू हो गया है। एक अनुमान के अनुसार, अगले दस साल में रोबो और ऑटोमेशन के चलते वॉल स्ट्रटी और बैंकिंग क्षेत्र में करीब 20 हजार नौकरियों में कमी आएगी।

Advertisement
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.