क्यों नहीं मिल पा रही उत्तर भारत में ठंड से राहत, जानने के लिए पढ़िए यह स्टोरी

नई दिल्ली। Weather Report : दिल्ली में कड़ाके की सर्दी से लोगों को फिलहाल राहत मिलते नहीं दिख रही है। इसकी बड़ी वजह बादल हैं। बादलों से सूरज की गर्मी नरम पड़ गई है। सूरज की किरणों धरती तक ठीक से पहुंच ही नहीं पा रही हैं, जिससे ठंडक कम हो सके।

मौसम विज्ञानी के अनुसार, पिछले लगभग एक पखवाड़े से बादल महज 200 से 300 मीटर की ऊंचाई पर ही सिमटे हुए हैं। धूल और प्रदूषण ने बादलों की परत को और मोटा कर दिया है। नतीजा, सूरज की गर्म किरणों इन बादलों को भेदकर धरती तक नहीं पहुंच पा रही है। आलम यह है कि कई बार तो पूरा-पूरा दिन धूप नहीं निकलती और कई बार निकलती भी है तो हल्के स्तर पर रह जाती है।

मौसम विज्ञानियों का कहना है कि पहाड़ों पर हुई बर्फबारी के कारण दिल्ली में इस समय हवा भी उत्तर पश्चिम दिशा से आ रही है। इस हवा में ठंडक ही नहीं बल्कि नमी भी बहुत है। इससे हवा में भारीपन भी बना हुआ है। ऐसे में यह बादलों को न तो उड़ा पा रही है और न ही उन्हें ऊपर ले जा पा रही है।

हालांकि मौसम विभाग का यह भी कहना है कि इस सर्दी की वजह जलवायु परिवर्तन नहीं है। हर एक दशक के बाद इस तरह की स्थिति बनती रहती है। कभी शीतलहर लंबी चलती है तो कभी कोहरा बहुत घना पड़ता है। यह मौसम का ही चक्र बनता जा रहा है।

प्रादेशिक मौसम विज्ञान केंद्र दिल्ली के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव बताते हैं कि ठंड कम या अधिक रहने के पीछे पश्चिमी विक्षोभों की सक्रियता भी बहुत मायने रखती है। इस बार हिमालय क्षेत्र में जो भी पश्चिमी विक्षोभ बन रहे हैं, सभी मजबूत रहे हैं। नए साल की शुरुआत में भी मजबूत पश्चिमी विक्षोभ के कारण ही बारिश और ओलावृष्टि की संभावना बन रही है। जनवरी में भी इस बार अच्छी खासी ठंड पड़ने की संभावना दिखाई दे रही है।

बता दें कि दिल्ली-एनसीआर में लगातार ठंड का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। दिल्ली में शनिवार को न्यूनतम तापमान 1.7  डिग्री सेल्सियस दर्ज किया है तो दिल्ली से सटे रेवाड़ी में न्यूनतम तापमान 1 डिग्री तक चला गया है। वहीं, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, 31 दिसंबर तक दिल्ली-एनसीआर के तापमान में गिरावट जारी रहेगी, इसके बाद मौसम में बदलाव होगा। इस बीच मौसम विभाग ने शनिवार को बारिश होने का अनुमान जताया जा रहा है।

Advertisement
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.