Solar Eclipse 2019: सूर्य ग्रहण का नजारा दिखा भारत में, 21 जून 2020 को अगला सूर्य ग्रहण

Surya Grahan Solar Eclipse December : भारत में सूर्य ग्रहण का गजब का नजारा देखा गया। गुरुवार को करीब 8 बजे से 11.05 बजे तक पीएम मोदी समेत लाखों भारतीयों ने इस नजारे का लुत्फ उठाया। यह 2019 का सबसे बड़ा और आखिरी सूर्य ग्रहण था। इससे पहले इस साल 6 जनवरी और 2 जुलाई को आंशिक सूर्यग्रहण लगा था। यह सूर्य ग्रहण को देश के दक्षिणी भाग में कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु के हिस्सों में दिखाई दिया जबकि देश के अन्य हिस्सों में यह आंशिक सूर्य ग्रहण के रूप में दिखाई दिया। दरअसल कहीं बादल तो कहीं साफ आसमान में सूरज पर ग्रहण का नजारा देखने को मिला।  इसके अलावा दुबई से भी पूर्ण ग्रहण की तस्वीरें सामने आई। यहां सूरज रिंग ऑफ फायर की तरह नजर आया। अब अगले साल 2020 में पहला सूर्य ग्रहण 21 जून 2020 को लगेगा, इसके बाद 14 दिसंबर में दूसरा सूर्य ग्रहण लगेगा। तमिलनाडु और केरल में विभिन्न स्थानों पर सूर्य ग्रहण देखने को मिला और सैकड़ों लोगों ने यह नजारा देखा। धार्मिक मान्यता के कारण सूर्य ग्रहण के दौरान राज्य में कई मंदिर बंद रहे। चेन्नई, तिरुचिरापल्ली, उदगमंडलम और मदुरै समेत राज्य के विभिन्न हिस्सों में साल का आखिरी सूर्य ग्रहण साफ दिखाई दिया। हालांकि कोयंबटूर और इरोड से मिली खबरों के अनुसार वहां बादल छाए होने के कारण ग्रहण अच्छी तरह दिखाई नहीं दिया।

यहां देखें सूर्य ग्रहण का पूरा अपडेट

पीएम मोदी ने भी सूर्य ग्रहण का अद्भुत नजारा देखा। उन्होंने ट्वीट कर कहा- दुर्भाग्य से मैं बादलों के छाए रहने की वजह से सूर्य ग्रहण नहीं देख पाया। लेकिन लाइव स्ट्रीमिंग से मैंने कोझिकोड और अन्य हिस्सों में सूर्य ग्रहण की झलक देखी।

मुंबई के नेहरू प्लेनोटोरियम से आंशिक सूर्य ग्रहण का नजारा देखा गया। लोग अद्भुत नजारा देखने के लिए उमड़े। 

surya grahan 2019 photo live
surya grahan 2019 photo
             -
             -

अगले साल यानी 2020 में 21 जून को होगा पहला सूर्य ग्रहण

अगला सूर्य ग्रहण भारत में 21 जून, 2020 को दिखाई देगा। यह एक वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा। वलयाकार अवस्था का संकीर्ण पथ उत्तरी भारत से होकर गुजरेगा। देश के शेष भाग में यह आंशिक सूर्य ग्रहण के रूप में दिखाई पड़ेगा।

दुबई में भी सूर्य ग्रहण का नजारा बेहद खूबसूरत दिखाई दे रहा है। दुबई में पूर्ण सूर्य ग्रहण दिखाई दिया। यहां सूर्य आग की अंगूठी जैसा दिखने लगा।

सूर्य ग्रहण को देखने के संबंध में नासा ने चेतावनी जारी की है। नासा ने कहा है कि यह सूर्य ग्रहण जितना सुंदर होगा, उतना ही खतरनाक भी होगा, इसलिए सूर्य ग्रहण के दौरान नंगी आंखों से सूर्य ग्रहण की तरफ न देखें। यही नहीं इसको देखने के समय विशेष सावधानी बरतें।

खासकर सूर्य ग्रहण के दौरान आपके पास चश्मा होना चाहिए। इसके अलावा अगर आप फोटोग्राफ लेना चाहते हैं तो आपके पास सोलर फिल्टर्स होने चाहिए। दरअसल कहा जाता है कि सूर्य ग्रहण के दौरान इससे खास तरह की किरणें निकलती हैं जो हमारी आंखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं।

इस ग्रहण को सीधे आंखों से देखने से बचें। ये सूर्य ग्रहण धनु राशि और मूल नक्षत्र में बनेगा इसलिए व्यक्तिगत रूप से धनु राशि और मूल नक्षत्र में जन्मे लोगों पर इस ग्रहण का विशेष प्रभाव पड़ेगा। इसलिए धनु राशि के लोगों को सूर्य ग्रहण (surya grahan december 2019 in india) नहीं देखना चाहिए। चैन्नई में भी सूर्य पर चंद्रमा की छाया पड़ने लगी है।

 

भारतीय समय अनुसार आंशिक सूर्य ग्रहण सुबह 8.04 मिनट से शुरू होगा और सूर्य ग्रहण सुबह 9.24 से चंद्रमा सूर्य के किनारे को ढकना शुरू करेगा। पूर्व सूर्य ग्रहण सुबह 9.26 पर दिखाई देगा। वहीं, 11.05 तक यह सूर्य ग्रहण खत्म हो जाएगा। इस ग्रहण की अवधि तीन घंटे बारह मिनट होगी।

इंदौर में 8.09 पर, पटना में 8.25 पर, जयपुर में 8.13 पर, कोलकाता में 8.17 पर, लखनऊ में 8.20 पर और नई दिल्ली में 8. 17 पर सूर्य ग्रहण शुरू होगा।

25 दिसम्बर की रात 8:17 पर सूतक लग चुके हैं जो सूर्य ग्रहण के बाद समाप्त होंगे। हरिद्वार में सूर्य ग्रहण के चलते गुरुवार को गंगा आरती सुबह न होकर पूर्वाह्न 11.30 बजे होगी। सूर्य ग्रहण के कारण लगने वाले सूतक को लेकर यह निर्णय लिया गया है। मनसा देवी, चंडी देवी, माया देवी समेत सभी मंदिरों के कपाट देरी से खुलेंगे।

कहां-कहां दिखेगा सूर्य ग्रहण
यह सूर्य ग्रहण को देश के दक्षिणी भाग में कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु के हिस्सों देखा जा सकेगा जबकि देश के अन्य हिस्सों में यह आंशिक सूर्य ग्रहण के रूप में दिखाई देगा। इसके साथ ही ऊटी, मंगलुरू, कोझिकोड, कोयंबटूर, शिवगंगा, अहमदाबाद,चेन्नई, मैसूर, कन्याकुमारी, तिरुचुरापल्ली में देखा जा सकेगा। इसके साथ ही साथ यह पूर्वी यूरोप, उत्तरी-पश्चिम ऑस्ट्रेलिया और पूर्वी अफ्रीका में भी देखा जा सकेगा।

21 जून, 2020 को होगा पहला सूर्य ग्रहण

अगला सूर्य ग्रहण भारत में 21 जून, 2020 को दिखाई देगा। यह एक वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा। वलयाकार अवस्था का संकीर्ण पथ उत्तरी भारत से होकर गुजरेगा। देश के शेष भाग में यह आंशिक सूर्य ग्रहण के रूप में दिखाई पड़ेगा।
छह ग्रह एक साथ होंगे : 
ज्योतिषाचार्य विभोर इंदुसूत ने बताया कि ये सूर्य ग्रहण धनु राशि और मूल नक्षत्र में बनेगा इसलिए व्यक्तिगत रूप से धनु राशि और मूल नक्षत्र में जन्मे लोगों पर इस ग्रहण का विशेष प्रभाव पड़ेगा। ज्योतिषीय नजरिये से 26 दिसंबर को होने वाले इस सूर्य ग्रहण का प्रभाव किसी समान्य सूर्य ग्रहण के मुकाबले बहुत ज्यादा तीव्र होगा। क्योंकि इस सूर्य ग्रहण के समय धनु राशि में एक साथ छह ग्रहों (सूर्य, चन्द्रमा, शनि, बुध, बृहस्पति, केतु) का योग बनेगा, जिससे इस सूर्य ग्रहण का प्रभाव बहुत ज्यादा और लंबे समय तक रहने वाला होगा।

Advertisement
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.