भीड़ हत्या पर टिप्पणी के लिए AIMIM नेता ओवैसी ने की मोहन भागवत की आलोचना

हैदराबाद: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान की आलोचना की जिसमें उन्होंने मॉब लिंचिंग को भारत को बदनाम करने वाला बताया था। मोहन भावगत ने कहा था कि भीड़ हत्या (लिंचिंग) ‘पश्चिमी तरीका’ है और देश को बदनाम करने के लिए इसका भारत के परिप्रेक्ष्य में इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।  AIMIM नेता ओवैसी ने कहा कि भीड़ हत्या के ‘पीड़ित भारतीय’ हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि भागवत भीड़ हत्या रोकने के लिए नहीं कह रहे हैं। हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने कहा, ‘(भीड़ हत्या के) पीड़ित भारतीय हैं। (भीड़ हत्या के) दोषियों को किसने माला पहनाई थी, किसने उन्हें (तिरंगे में) लपेटा था।

हमारे पास गोडसे प्रेमी भाजपा सांसद हैं।’ ओवैसी ने ट्वीट किया कि गांधी और तबरेज़ अंसारी की हत्या जिस विचारधारा ने की उसकी तुलना में भारत की बड़ी बदनामी और कोई कुछ नहीं हो सकती। वहीं भागवत भीड़ हत्या रोकने के लिए नहीं कह रहे हैं। वह कह रहे हैं कि इसे वो (लिंचिंग) मत कहो। गौरतलब है कि नागपुर में मंगलवार सुबह आरएसएस की विजयादशमी रैली को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा कि भारतीय परिप्रेक्ष्य में लिंचिंग शब्द का इस्तेमाल करना गलत है। यह शब्द भारत को बदनाम करने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।

Loading...
Loading...
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.