खात्मा हुआ कश्मीर में तीन परिवारों के साम्राजवाद का: स्वतंत्रदेव

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि कहा कि कश्मीर से अनुच्छेद 370 एवं 35 ए कलंक हटने से डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, डॉ. भीमराव आंबेडकर, सरदार पटेल, पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल विहारी बाजपेयी का सपना पूरा हुआ है। अब कश्मीर और कश्मीरी मुख्यधारा में शामिल हो गए हैं। इससे आम कश्मीरी के विकास का मार्ग बढ़ा है। इसके अलगाववाद, आतंकवाद और परिवार के साम्राज्य का खात्मा हुआ है।
स्वतंत्रदेव सिंह शनिवार को निपाल क्लब में पत्रकारों से मुखातिब थे। वे प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त होने के बाद पहली बार गोरखपुर में आयोजित अभिनंदन समारोह में आए थे। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक भी ली। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 एवं 35ए के हटाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं गृहमंत्री अमित शाह की जमकर तारीफ की। कहा कि अब भारत का स्वर्ग सुरक्षित है। कश्मीर पर सरकार के निर्णय से लोगों में हर्ष का माहौल है। कार्यकर्ता भी उत्साहित हैं, इसलिए उन्हें जश्न का मौका मिलेगा। जिला एवं मण्डल स्तर पर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने प्रदेश में एक दिन में 22 करोड़ पौधे लगाए जाने एवं चार रिकॉर्ड बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आभार जताया।
उप चुनाव में सभी सीटों पर जीतेगी भाजपा
धारा 370 और 35ए को हटाने का भाजपा को राज्यसभा के विधानसभा उपचुनावों में तात्कालिक लाभ मिलने की संभावना जताई जा रही है। अकेले उत्तर प्रदेश में 12 सीटों पर विधानसभा का उपचुनाव होने हैं। इन 12 सीटों में 10 भाजपा और 2 सीटें सपा और बसपा के खाते में हैं। लोकसभा उपचुनाव में मिली ऐतिहासिक जीत हासिल करने वाली भाजपा अपनी एक भी सीट गंवाना नहीं चाहती। एक सवाल के जवाब में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि जहां उप चुनाव होने हैं, एक-एक मंत्री को जिम्मेदारी देने के साथ कार्यकर्ता भी लगा दिए गए हैं। केंद्र एवं प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं एवं नीतियों के बूते सभी सीटों पर भाजपा परचम फहराएगी। उन्होंने कार्यकर्ताओं की भी जम कर सराहना की।

 

Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।