रोबोट ट्रैफिक पुलिस कर रही चीन की सड़कों पर गश्त, जानें क्या हैं इसकी खासियतें

सबसे ज्यादा जनसंख्या वाले देश में ट्रैफिक को नियंत्रित करना आसान काम नहीं है। इसे देखते हुए चीन ने चेहरा पहचानने वाली तकनीक से लैस रोबो पुलिस की तैनाती सड़कों पर कर दी है। रोबोटिक ट्रैफिक पुलिस ने उत्तरी चीन के हेबान प्रांत के हनदान शहर की सड़कों पर गश्त शुरू कर दी है।

हनदान की ट्रैफिक पुलिस ने बताया कि तीन तरह के रोबो पुलिस की तैनाती की गई है। एक गश्ती करेगा, दूसरा लोगों को जरूरी जानकारी प्रदान करेगा और तीसरा दुर्घटनास्थल पर मौजूद रहेगा।

ऑटोमेटिक तकनीक से लैस
पेट्रोलिंग रोबोट में ऑटोमेटिक नेविगेशन तकनीक होगी। यह कार की रजिस्ट्रेशन प्लेट को पहचान सकेगा और गाड़ी की तस्वीरें खींच सकेगा। यह रोबोट ट्रैफिक तोड़ने वाले लोगों को मौखिक चेतावनी देगा और तस्वीरें खींचेगा। लोगों को जानकारी देने वाले रोबोट को व्हीकल मैनेजिंग ब्यूरो में गश्त पर लगाया गया है। यह उन लोगों को जानकारी प्रदान करेगा जो ब्यूरो में ट्रैफिक संबंधी जानकारी और घटनाओं के बारे में जानने के लिए आते हैं। रोबोट के सामने लगी डिस्प्ले स्क्रीन के जरिए लोगों को जानकारी दी जाएगी।

रोबोट में डाटाबेस भी फीड किया जाएगा, जिसकी मदद से वह किसी भी संदिग्ध या वांछित व्यक्ति की पहचान कर प्रशासन को सतर्क करेगा। एक्सीडेंट रोबोट सबसे छोटा है। इस छोटे रोबो को इस तरह प्रोग्राम किया गया है ताकि वो किसी भी दुर्घटनास्थल पर व्यवस्था बनाए रखने में मदद कर सकें और इंसानी पुलिस अफसरों को दुर्घटना के बारे  में सारी जानकारी भेजे।

बिग डाटा तकनीक से लैस
हनदान की रोबो पुलिस बिग डाटा तकनीक से लैस है। यह पहल चीन की सरकार ने की है। बिग डाटा तकनीक को नेशनल सर्विलांस सिस्टम से समर्थन प्राप्त है। इसमें 20 करोड़ एआई आधारित स्ट्रीट कैमरे भी शामिल हैं। इस सर्विलांस सिस्टम का उद्देश्य चीन के 1.4 अरब लोगों में से किसी की भी पहचान तीन सेकेंड के अंदर करना है। चीन ने 2016 से ही जनता की सुरक्षा के लिए रोबोट का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया था। पहले रोबो अफसर एनबोट को शेंजान अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर सुरक्षा जांच के लिए लगाया गया था। यह दुनिया के सबसे व्यस्ततम हवाईअड्डों में से एक है।

 

Advertisement
Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह samayduniya7@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.